अंतर्राष्टीय ग्वालियर मध्य प्रदेश

अजय दुबे।होली लॉक डाउन पर खाद विभाग ने की कार्रवाई मोर बाजार मैं लिए मावे के सैंपल आवक घटी ताे मावा के दाम बढ़ाए।

अजय दुबे।होली लॉक डाउन पर खाद विभाग ने की कार्रवाई मोर बाजार मैं लिए मावे के सैंपल आवक घटी ताे मावा के दाम बढ़ाए।
ग्वालियर।ग्वालियर में लगातार कोरोना संक्रमण फेल रहा है उसके दौरान रविवार लॉक डाउन मैं होली के दौरान मावे में मिलावट पर लगाम कसने के लिए रविवार को नायब तहसीलदार पूजा मावई के नेतृत्व में खाद सुरक्षा अधिकारी सतीश शर्मा सतीश धाकड़ और अधिकारियों ने मोर बाजार में अचानक कार्यवाही की अधिकारियों ने मोर बाजार का निरीक्षण किया इसके बाद 5 दुकानों से मावे के सैंपल लिए अधिकारियों ने सभी दुकानदारों को स्वच्छता रखने की चेतावनी दी यह खाद विभाग द्वारा पहले भी कार्रवाई की गई थीप्रशासन द्वारा मिलावट के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है लेकिन उसके उतने परिणाम नहीं आ रहे इतने आने चाहिए कई कार्रवाई के बाद व्यापारी फिर मुनाफे के लालच में पुराने ढर्रे पर आ जाते हैं यहां से लिए गए सैंपल , – राकेश कनजोरिया संचालित , महावीर मावा भंडार बालाजी मावा भंडार , संचालित हरीश सिंह राठौर मावा भंडार संचालित गुरु कृपा मावा भंडार और जितेंद्र रजक नाम के मावा के सैंपल लिए गए
लगातार कार्रवाई के कारण शहर की दुकानों पर मावा गायब होने लगा है। जो मावा सात दिन पहले तक 210-215 रुपए प्रति किलो मिल रहा था अब उसके दाम 255से 260 रुपए कर दिए गए हैं। जो कारोबारी अपनी दुकानों पर दूध लाकर खुद मावा बना रहे हैं वे 270 से 280 रुपए मावा बेच रहे हैं। हालांकि दूध की सप्लाई और कीमतों पर फिलहाल असर नहीं है।

मोर बाजार में मावे की चालीस दुकानें हैं। कार्रवाई के डर से पिछले दो से तीन दिन से कारोबारियों ने मावा मंगाना बंद कर दिया है। कुछ व्यापारी इक्का-दुक्का डलिया मंगवा भी रहे हैं। रास्ते में धरपकड़ न हो इसलिए दुकान से मावे की डलिया को ढंककर दिया जा रहा है। कुछ दुकानदार घर से सप्लाई देने लगे हैं। कुछ मावा कारोबारी ने बताया कि जो व्यापारी ईमानदारी से काम कर रहे थे उन्हें भी शक की निगाहों से देखा जा रहा है। शहर में मावा धौलपुर, भिंड-मुरैना, डबरा, घाटीगांव, बरई-पनिहार से आता है।

ग्वालियर में दूध की आपूर्ति
दूधिए और डेयरी से आपूर्ति 4 लाख लीटर

सांची दूध 30 हजार लीटर

अमूल दूध 22 हजार लीटर

कुल सप्लाई 4.52 लाख लीटर

आवक 30 से 35 डलियों पर सिमटी
प्रशासन की सख्ती से पहले तक बाजार में हर दिन करीब 200 डलियों (एक डलिया में 25 किलो) यानि कि 5000 हजार किलो मावा की आवक हो रही थी। जो कि अब 30 से 35 डलियों की रह गई है। जानकारों के अनुसार एक किलो शुद्ध मावा बनाने में पांच किलो दूध लग जाता है। देहात में दूध के दामअब 36 से 40 रुपए और शहर में 50 से 55 रुपए प्रति किलो हैं। सांची किसानों से 28 से 32 रुपए में दूध खरीद रही है।       ऐसे बनता है मिलावटी मावा

भिंड-मुरैना और ग्वालियर के देहात में भटि्टयों पर मिलावटी मावा बनाने और उसकी मात्रा बढ़ाने के लिए स्टार्च, आयोडीन और आलू का इस्तेमाल किया जाता है। मिल्क पाउडर में वनस्पति घी को मिलाकर मावे को तैयार किया जाता है। इसमें शकरकंद, सिंघाड़े का आटा और मैदे का भी इस्तेमाल किया जाता है

Jantantr
जनतंत्र वेब न्यूज़ में खबर एवम विज्ञापन के लिये सम्पर्क करें -----9425121237
http://jantantr.com/