अपराध

मुजफ्फरपुर पूर्व मेयर हत्‍याकांड: यहां नई नहीं ऐसी वारदात, पहले भी गरजती रहीं AK 47

पटना [काजल]। मुजफ्फरपुर की बात करें तो वहां का अतीत ऐसी वारदातों से दागदार रहा है।बिहार पुलिस के अपराध नियंत्रण के दावे को धता बताते हुए अपराधी सरेआम बड़ी घटनाओं को अंजाम देकर भाग निकल रहे हैं। शुक्रवार को पटना के कोतवाली थाने से मात्र सौ मीटर की दूरी पर बाइक सवार अपराधियों ने सिवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के शूटर मो. तबरेज उर्फ तब्बू की दिनदहाड़े हत्या कर दी। इसकी सनसनी अभी कायम ही थी कि रविवार की शाम मुजफ्फरपुर में पूर्व मेयर समीर कुमार को एके 47 से भून दिया गया।

समीर के शरीर से निकलीं 16 गोलियां, ड्राइवर को मारी थीं 11 गोलियां
फिर एक दिन के बाद ही रविवार को अपराधियों ने फिर से बड़ी घटना को अंजाम देते हुए पुलिस को चुनौती दी और मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर कुमार की गाड़ी को घेरकर ताबड़तोड़ फायरिंग की और कार में बैठे समीर के शरीर को गोलियों से छलनी कर दिया। पोस्टमार्टम में उनके शरीर से कुल 16 गोलियां निकाली गईं हैं। वहीं समीर के ड्राइवर को भी अपराधियों ने 11 गोलियां दागीं जिससे दोनों के खून से लथपथ शरीर को कार से बरामद किया गया।

इस हत्या को कुल नौ अपराधियों ने अंजाम दिया है और उनके पास अत्याधुनिक हथियार AK-47 मौजूद थे जिससे उन्होंने अंधाधुंध फायरिंग की। हत्या की वजह प्रॉपर्टी डीलिंग बताई जा रही है।